ब्राह्मण कल्याण बोर्ड के गठन को लेकर ब्राह्मण सेवक तरुण मिश्र ने फिर उठाई आवाज

– मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय से उनके आवास पर तरुण मिश्र ने मुलाकात कर विभिन्न मुद्दों पर की चर्चा

रायपुर। देश में लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद एक बार फिर से ब्राह्मण कल्याण बोर्ड के गठन का मुद्दा गरमा गया है। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव में भाजपा द्वारा की गई ब्राह्मणों की अनदेखी का परिणाम भी सबके सामने आ गया। मंगलवार को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में राज्य के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय से मुख्यमंत्री आवास में ब्राह्मण सेवक तरुण मिश्र ने मुलाकात कर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। देश-विदेश की यात्रा कर ब्राह्मणों के हितों को लेकर अपनी आवाज उठा रहे ब्राह्मण सेवक तरुण मिश्र ने एक बार फिर से ब्राह्मण कल्याण बोर्ड के गठन को लेकर अपनी आवाज को बुलंद कर दिया है। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय से मुलाकात के दौरान तरुण मिश्र ने कहा कई राज्यों में ब्राह्मण कल्याण बोर्ड का गठन हो गया है। मगर अभी तक छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश समेत ऐसे कई राज्य है, जहां पर ब्राह्मण कल्याण बोर्ड का गठन नहीं हो पाया है। जिस कारण ब्राह्मणों के हितों का दोहन हो रहा है। लोकसभा चुनाव 2024 में ब्राह्मणों की जिस तरह से भाजपा द्वारा अनदेखी की गई, आज उसी का परिणाम है कि कई राज्यों में भाजपा अपनी सीट तक नहीं बचा पाई और उत्तर प्रदेश में भी काफी सीटों को खोना पड़ा। उन्होंने कहा ब्राह्मण समाज पर वर्तमान में चारों तरफ से आक्रमण और अत्याचार हो रहे हैं। ऐसे में ब्राह्मण समाज की सुनवाई के लिए सरकार को ब्राह्मण कल्याण बोर्ड का गठन करना चाहिए।

ब्राह्मण समाज किसी के भी खिलाफ नहीं रहा है और हमेशा सर्व समाज को रास्ता दिखाने का कार्य किया है। इसके बावजूद भी ब्राह्मण समाज सदैव लोगों के निशाने पर रहा है। वर्तमान में हालत यह है कि ब्राह्मण समाज पर चौतरफा आक्रमण और अत्याचार हो रहे हैं। इसी वजह से तरुण मिश्र द्वारा पिछले काफी समय से ब्राह्मण कल्याण बोर्ड का गठन किए जाने की मांग की जा रही है। इससे पूर्व भी पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात कर ब्राह्मण कल्याण बोर्ड के गठन की मांग की गई थी, मगर वह भी आज तक पूरी नहीं हुई है। आज फिर से उसी मांग को लेकर पत्र दिया जा रहा है। मैं पहले भी छत्तीसगढ़ आता रहा हूं। पहले के छत्तीसगढ़ और अब के छत्तीसगढ़ में अंतर को महसूस किया जा सकता है। छत्तीसगढ़ में तेजी से विकास कार्य हो रहे हें। तरुण मिश्र ने कहा मुख्यमंत्री बेहद ऊर्जावान व्यक्ति हैं और राज्य में जनकल्याण के लिए काफी अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने ब्राह्मण समाज के हित में मेरे द्वारा उठाये गये मुद्दों को गंभीरता से सुना और उस पर आवश्यक कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

ब्राह्मण कल्याण बोर्ड का गठन, मंदिरों में काम करने वाले पंडित और पुजारियों को मासिक तनख्वाह, आर्थिक रूप से कमजोर ब्राह्मण परिवार की बेटियों की शादी में आर्थिक मदद सहित कमजोर ब्राह्मण के लिए नौकरियों में आरक्षण की मांग की गई। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने कहा कि ब्राह्मण कल्याण बोर्ड के गठन की दिशा में प्रयास किया जाएगा। इस दौरान तरुण मिश्र ने सोमवार को बलौदाबाजार जिले में हुई हिंसा की निंदा करते हुए कहा कि किसी भी मांग को लेकर उग्र आंदोलन करना उचित नहीं है। मंदिर में की देवी-देवता की मूर्ति को खंडित कर दिया गया। इस तरह की घटना को ब्राह्मण समाज बिल्कुल भी बर्दाश्त नही करेगा। उन्होंने मुख्यमंत्री से इस मामले में कठोर कार्रवाई करने की अपील की।