बाल-बाल बचा नगर निगम कर्मचारी का परिवार हादसे में बिजली विभाग की घोर लापरवाही आई सामने

गाजियाबाद नगर निगम के टैक्स विभाग में कार्यरत कर्मचारी शिव कुमार शर्मा बम्हेटा गांव में सपरिवार रहते हैं। शनिवार सुबह शिव कुमार मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। घर में पत्नी बच्चे और अन्य लोग सो रहे थे। सुबह पांच बजे के करीब घर के पास में रखे ट्रांसफार्मर में ब्लॉस्ट हुआ। ब्लॉस्ट के बाद ट्रांसफर्मर में आग लग गई और ट्रांसफार्मर का तेल शिव कुमार के मकान में फैल गया।

उदय भूमि संवाददाता
गाजियाबाद। शनिवार सुबह बिजली विभाग की लापरवाही से नगर निगम कर्मचारी के परिवार की जान पर बन गई। गनीमत रही कि हादसे में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ। बिजली विभाग की इस लापरवाही से लोगों में गुस्सा है। बिजली विभाग की लापरवाही को लेकर बम्हेटा गांव में लोगों ने नारेबाजी भी की। ग्रामीणों द्वारा बिजली के ट्रांसफार्मर कहीं और लगाये जाने की मांग की जा रही है।


गाजियाबाद नगर निगम के टैक्स विभाग में कार्यरत कर्मचारी शिव कुमार शर्मा बम्हेटा गांव में सपरिवार रहते हैं। शनिवार सुबह शिव कुमार मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। घर में पत्नी बच्चे और अन्य लोग सो रहे थे। सुबह पांच बजे के करीब घर के पास में रखे ट्रांसफार्मर में ब्लॉस्ट हुआ। ब्लॉस्ट के बाद ट्रांसफर्मर में आग लग गई और ट्रांसफार्मर का तेल शिव कुमार के मकान में फैल गया। थोड़ी ही देर में आग ने शिव कुमार के मकान को चपेट में ले लिया। धमाका इतना तेज हुआ कि घर में लगे खिड़की और दरवाजे के सीसे टूट गई। ट्रांसफार्मर की आग किचेन तक पहुंच गई। आनन-फानन में लोगों ने किचन से गैस सिलेंडर हटाया और घर के अंदर सो रहे बच्चों और महिलाओं को बाहर निकाला। आग की लपटें इतनी बिकराल थी कि उसे 2 किलोमीटर दूर से भी देखा जा सकता है। आग के कारण घर को काफी नुकसान हुआ। घर में रखा पूरा सामान जल गया और मकान का लिंटर भी चटक गया। शिव कुमार ने बताया कि घर से आगे थोड़ी दूर पर तालाब के पास खाली जगह है। बिजली विभाग के अधिकारियों से कई बार ट्रांसफार्मर को मकान के पास से हटाकर खाली पड़े जगह में शिफ्ट करने की मांग की गई। लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की। आग लगने की सूचना देने के बाद भी कई घंटों तक बिजली विभाग के कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचे। इससे ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया। ग्रामीणों ने बिजली विभाग के खिलाफ खूब हंगामा और नारेबाजी की।